नटखट दोपहर

 
धुप को की खूब गुदगुदी और जोर से हंसी
छाँव को जी भर भिगोया और कीचड़ से की दोस्ती
पेड़ो पर फेंके अनगिनत रंग और भागी अन्दर
सूरज की सैंडविच बनाई और आँखें कर बड़ी बड़ी खा गयी सूरज
चिड़ियों को जो भी थाली में माँ ने परोसा था वह सब खिलाया
पापा से पुछा उनके जूते में जो दोस्त रखा था टर टर मेंढक वह अब भी है या नहीं
दादा जी की ऐनक को अलमारी में छुपाया
दादी की साड़ी पहन टीचर टीचर खेली
मेरी बिटिया ने किया यह सब कुछ
और मेरा बचपन लौट आया
Advertisements

6 responses

  1. Had a wonderful feeling,remembering the sweet childhood of my daughters!I can say -I admire this expression in llyric-LOVELY!

  2. aap sabhi ka in utsahvardhak shabdo ke liye bohut bohut dhanayavaad

  3. sitting and admiring your ability to imagine stuff… we usually lose it as we get older…. 🙂

  4. ekdam bachchon ke man jaisi bholi bhali kavita… padh kar man khush ho gaya.

शब्दों की झप्पी

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: