डाल डाल पर नया साल

नया साल कैसा होगा
नया साल ऐसा होगा
ऐसा वैसा करते करते
लो आ गया नया साल
और कैसा होगा
कुछ जाना सा कुछ अनजाना सा
थोडा इतर थोडा परफ्यूम
वही गाना बजाना
वही बरात में पागलो सा नाचना
वही सुबह स्कूल  ना जाने की जिद
वही सन्डे के आने की ख़ुशी
वही मंडे के आने का गम
वही अचार और मुरब्बे
वही बाल लम्बे रखू या छोटे पर लम्बी बहस
वही सब और उन सब में नए साल का एक ट्विस्ट
वही जी भर के खाना और फिर बढते वजन पर रोना
वही पकवानों पर चटनियों के किस्से
वही गर्मी में सर्दियों और सर्दियों में गर्मियों को याद करना
वही दोस्तों के साथ पुरानी बातें खोद कर उन पर हसना
वही चाय और समोसे का रोमांस
वही एक्स्ट्रा गोलगप्पा सूखा सेव डाल कर खाना
और इन सब में नए साल का तड़का
नया साल आएगा और पुराना हो जायेगा
और लोग महंगाई
सरकार के धमाके
क्रिकेट
सांस बहू के सीरियल
दोपहर तीन बजे की गपशप
इन्ही सब में सब भूल जायेंगे
इसी में ही तो जीवन है
और इन्ही सब में जीवन के लाखो रंग
यही सब और इनमे नए साल के कुछ पत्ते
दिल से जियो  जी भर के जियो

सर उठा के सम्मान से जियो
आप सभी को  नए साल के सभी पुराने किस्से
और उनमे भरने वाले हर नए रंग बहुत बहुत मुबारक

 

Advertisements

9 responses

  1. bahut hi khoobsurat kavita hai. soma tumne hamesha ki tarah hi shabdo ko bahut sahi jagah piroya hai. meri taraf se tumhe aur tmhare pariwar ko naye saal ki hardik subhkamanye…

  2. बहुत खूब – नए साल पर एक नया नजरिया !!!

  3. क्या बात ,क्या बात,क्या बात,बहुत खूब
    नया साल मुबारक हो|

  4. वाह …बहुत खूब …

    नववर्ष की अनंत शुभकामनाएं ।

  5. सुंदर रचना,नव वर्ष आपके लिए मंगल मय हो।

शब्दों की झप्पी

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: