सुबह की चुस्की

image courtsey Google

आज सुबह जब
अपनी पंखुड़ी खोले
तू भी उठ कर देख
~
देख की क्या नशा है
सुबह में आज
कैसे हवा नए रंग लिए
मस्त मगन हो डोल रही
कैसे कली नए पौशाख पहन
 खिलने को हो रही आतुर
कैसे पंछियों ने नए गीतों के
बांधे है नए बंधनवार
कैसे रात का बादल  सूरज की तेज़
से नहा रहा है आज
~~~~~
अरे उठ पगले
अम्मा आवाज दे दे कर थक गयी
नींद को पेड़ पर दे टांग
टहनी से कह
रात तक करे उसकी देखभाल
बंदरो से कह
कूद कूद करे रखे नींद को तैयार
कि जब थक जाए यह शरीर
तो आने में ना करे आज देर
तब तक इस नए सुबह कि चुस्कियों से
मन को कर तरो ताज़ा
आगे बढ़
और नए रास्तो से
आज कर पहचान
लिख गीत ऐसे
कि कल पंछी
उसी गीत से
करे सुबह का आव्हान
Advertisements

19 responses

  1. बहुत सुन्दर कविता है , आखिरी चार पंक्तियों में बहुत सुन्दर विचार व्यक्त किये हैं|
    Image बहुत खुबसूरत है ,उस बेंच पर बैठने की इच्छा हो रही है|

  2. बेहद खूबसूरत

    सादर

  3. कल 31/05/2012 को आपकी यह पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

  4. अनुपम भाव संयोजन किये हैं आपने इस अभिव्‍यक्ति में ।

  5. बहुत ही सुन्दर रचना है…
    सुन्दर प्रस्तुति….

  6. सोमा जी नमस्कार
    एक लंबे अंतराल के बाद आपकी रचनाओं का सुखद अहसास …..
    हिंदी के प्रति आपकी स्नेहांजलि यूँ ही प्रवाहमान रहे ,इसी मंगलकामना के संग
    सादर

  7. नए बिम्बों का उपयोग …अच्छा लगा ..सुन्दर प्रस्तुति !

  8. “नींद को पेड़ पर दे टांग
    टहनी से कह
    रात तक करे उसकी देखभाल”

    लाजवाब…..

    श्रीराधे….

  9. बहुत सुन्दर रचना…..
    मन भा गयी…

    अनु

  10. Aao chalein us raat ke Paar
    Jahan suraj chamke mere yaar
    Jahan taazgi ki baahon mein
    jeevan kare Tera intezaar ..

  11. शायद पहली दफा आपके ब्लॉग पर आया हूँ.
    बहुत ही सुन्दर भावमय प्रस्तुति है आपकी.
    जानकर खुशी हुई कि आप भी गाजियाबाद
    से हैं.मेरे ब्लॉग पर आपका हार्दिक स्वागत है.

शब्दों की झप्पी

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: