Tag Archives: मेरी कविताये

सपनो का मेला

काश मैं होती एक नदी
पीछे छूटते किनारे
कम होती मेरी धारा
ना करते मेरी आँखें  नम
                                       काश मैं  होती एक पर्वत
                                       मेरे तन पर होता प्रहार
                                       निर्वस्त्र हुआ मेरा अंग
                                       न शर्मसार करते मेरा जीवन
काश मैं होती आकाश
बादलों के बरसने के बाद
सुनसान रातों में
ना महसूस करती मैं खालीपन
                                      पर अगर मिला होता मुझे यह वरदान
                                      तो मैं कहलाती भगवान्
                                      इंसान हूँ
                                      लालच की पोटली हूँ
                                      उम्मीदों और निराशाओं से सजी एक रचना हूँ
                                      आने की ख़ुशी,
                                      जाने का गम
                                      सबको दिल में समाये
                                     अपने साँसों में पिरोए जीए जाऊँगी
                                     और एक दिन कुछ दिलो में
                                     कुछ यादें,कहानिया,हंसी और दुःख
                                     सब छोड़ इन्ही हवाओं में मिल जाउंगी
Advertisements

छप्पन जी को हराना मुश्किल ही नहीं नामुमकिन है

छप्पन जी  का नाम ऐसा
क्योकि करते है वो  छप्पन  भोग
क्या करे भाग में ही
लिखा है उनके राजयोग
बड़ी कोशिश की सरकार ने
पर धन ना हुआ उनका कम
घूस ठूस ठूस कर खाते और
सब कर जाते हजम
लक्ष्मी  जी  भी  उनसे  रहती है
सदैव  प्रसन्न
जहा भी हाथ  लगाते है
वही पर उपजता है  धन
फिर एक दिन वे बोले जाना
है हमें तिहाड़
यह सुन कर मचा ऐसा शोर
जैसे गिरा हो कोई पहाड़
पूछा उनसे हमने
क्यों करते है ऐसा गज़ब
खुद से भी कोई जाता है जेल
आप के तो खेल ही अजब
बोले  छप्पन जी अरे तिहाड़
बन गया है एक बड़ा कोटेज इंडस्ट्री
और क्यों ना हो वहा  बैठी जो  है
लगभग सारी मिनिस्ट्री
हमें वहा मिल जाए एंट्री
तो कमाल हो जाए
अब तक बाहर कमाया
अब थोडा अन्दर भी हो जाए
अब सब तिहाड़ जाने के लिए
मचाये है हड़बड़ी
और छप्पन जी  के पीछे
घूम रहे है हर घड़ी
आपको मिलना हो तो आप भी बताये
        अरे क्या क्यों
जस्ट टू गेट एन  आईडिया सर जी

खट्टी मीठी

कभी मीठे आंसू
कभी नमकीन हंसी
चुलबुली नटखट सी
बात बात पर रूठती
कभी अचानक ही ठहाके मारती
कभी सादी खिचड़ी
कभी चटपटी चाट
कभी तेज़ धार बन बहती
कभी सभल संभल  कर चलती
यह मेरी हलकी हलकी गर्म सर्द
रेशम और कपास जैसी ज़िन्दगी
पत्थरो को सीचती नर्म रेशम
फूलों को सिखाती मीठी मीठी बदमाशिया
मछलियों से करती गपशप
चिड़ियों को दाने दे कर बहलाती
पेड़ो से छंद मांगती उधार
बादलो से  सपनो को तराशती
कितनी कहानिया बुनती
और उनकी पोटली बना कर बहाती नदियों में
परछाइयों से पूछती सवाल
चांदनी ओढ़ सूरज  को घूरती
डूबती तैरती ,खेलती कूदती
बोलती सुनती एक  रोचक किताब सी मेरी ज़िन्दगी
कभी जोकर बन कर हँसाती कभी जोकर बनाती
कभी गुस्सा कभी प्यार
कभी यह सोचू की क्या करू
कभी कर जाऊ और सोचू की सोच लिया होता
कभी बात सुनते सुनते खो जाऊ अपनी दुनिया में
कभी तलाशती फिरू इसके मायने
ठण्ड की लम्बी रातो में लम्बी कहानियो  जैसी
थोड़ी सच्ची थोड़ी झूठी
यह कुछ पागल सी बावली सी मेरी ज़िन्दगी
ऐसी वैसी सबसे हट कर
सब के जैसी मेरी ज़िन्दगी
%d bloggers like this: